पुरुष meaning in hindi

[सं० पुं० सं० ] पुरुष आत्मा मनुष्य आत्मा सांख्य विष्णु सूर्य पुन्नाग का वृक्ष गुग्गुल सीखपाँव मनुष्य का शरीर आत्मा पूर्वज स्वामी ज्योतिष में विषम राशियाँ सांख्य के अनुसार प्रकृति से भिन्न भिन्न अपरिणामी, अकर्ता और असंग चेतन पदार्थ इसी के सान्निध्य में प्रकृति संसार की सृष्टि करती है घोडे़ की एक स्थिति जिसमें वह अपने दोनों अगले पैरों को उठाकर पिछले पैरों के बल खड़ा होता है व्याकरण में सर्वनाम और तदनुसारिणी क्रिया के रूपों का वह भेद जिससे यह निश्चय होता है कि सर्वनाम या क्रियापद वाचक कहनेवाले के लिये प्रयुक्त हुआ है अथवा संबोध्य जिससे कहा जाय के लिये अथवा अन्य के लिये मानव जाति का नर प्राणी (स्त्री से भिन्न)२. उक्त प्रकार का वह व्यक्ति जिसमें विशिष्ट शक्ति या सामर्थ्य हो और जो वीरता तथा साहस के काम कर सकता हो जैसे—तुम्हें पुरुषों की तरह मैदान में आना चाहिए राज्य की ओर से सार्वजनिक कार्यों के लिए नियुक्त किया हुआ कोई अधिकारी राज-पुरुष ऊँचाई की एक नाप जो सामान्य वयस्क मनुष्य की ऊँचाई के बराबर होती है पुरसा शरीर में रहनेवाली आत्मा या जीव वह प्रधान सत्ता, जो सारे विश्व में आत्मा के रूप में वर्तमान है विश्वात्मा विशेष—सांख्यकार ने इसे आकृति से भिन्न एक ऐसा चेतन मूल तत्त्व या पदार्थ माना है, जिसमें कभी कोई परिणाम या विकार नहीं होता, और जो स्वयं कुछ भी न करने और सबसे अलग रहने पर भी प्रकृति के सान्निध्य से ही सृष्टि की उत्पत्ति करता है किसी व्यक्ति की ऊपरवाली पीढ़ी या पीढ़ियाँ पूर्व पुरुष पूर्वज उदाहरण—सों सठ कोटिक पुरुष समेता बसहिं कलप सत नरक-निकेता —तुलसी स्त्री का पति या स्वामी व्याकरण में, वक्ता की दृष्टि से किया जानेवाला सर्वनामों का वर्गीकरण विशेष—इसके उत्तम पुरुष, प्रथम पुरुष और मध्यम पुरुष ये तीन विभाग हैं वक्ता अपने संबंध में जिस सर्वनाम का उपयोग करता है, वह उत्तम पुरुष कहलाता है जैसे—मैं या हम वह जिससे कोई बात-चीत करता है, उसके संबंध में प्रयुक्त होनेवाले विशेषण मध्यम पुरुष कहलाते हैं जैसे—तू, तुम और आप किसी तीसरे अनुपस्थित या दूरस्थ व्यक्ति या पदार्थ के लिए प्रयुक्त होनेवाले सर्वनामों की गणना प्रथम पुरुष में होती है जैसे—वह या वे कुछ वैयाकरण अँगरेजी व्याकरण के अनुकरण पर इन्हें क्रमात्, प्रथम पुरुष, द्वितीय पुरुष और तृतीय पुरुष भी कहते हैं हमारी भाषा में इन पुरुषों का परिणाम या प्रभाव क्रिया-पदों पर भी होता है जैसे—मैं जाता हूँ तुम जाते हो वह जाता है आदि १॰. विष्णु पुन्नाग घोड़े का अपने पिछले दोनों पैरों पर खडा होना पुरुषक (देखें) [सं०]१. तीखा जैसे—पुरुष पवन ‘स्त्री’ का विपर्याय जैसे—पुरुष मकर जोरदार बलवान
loading...
What is the meaning of पुरुष in hindi? Definiton of पुरुष? पुरुष ka matlab kya hota hai? Janiye purush ka arth
loading...